Thursday, 23 June 2016

देश के सभी घोषित और स्वघोषित बहुजन हितैषी संगठनो/पार्टियों से सिर्फ 08 सवाल

01. मजलूम और बेगुनाह रोहित वेमुला का क़त्ल, कई आंदोलन हुए.
     मजलूम और बेगुनाह अखलाख के लिए उफ्फ तक नहीं, क्यों ?

02. कई बहुजन महापुरुषों का इतिहास प्रकाशित करना सराहनीय कार्य
     एक भी मुस्लिम महापुरुष का इतिहास प्रकाशित नहीं, क्यों ?

03. कई सालो में लाखो कार्यक्रम किये गए मंच को महापुरुषों और मजलूमों का नाम दिया गया सराहनीय है.
     एक भी मुस्लिम महापुरुष या मुस्लिम मजलूम का नाम नहीं दिया गया क्यों ?

04. 52 हजार बेगुनाह मुसलमान सलाखों के पीछे है यह जोर जोर से चिल्लाया जाता है, सराहनीय
     आज 52 हजार से आंकड़ा 82 हजार हुआ क्यों ?

05. हर बहुजन महापुरुष के बदनामी और अपमान को लेकर आंदोलन में मुसलमान सबसे आगे,  सराहनीय
    मुहम्मद पैगम्बर(स.) पर आपत्तिजनक टिपण्णी पर खामोशी, क्यों ?

06. अहमदनगर के भोतमांगे परिवार का कत्लेआम, जगह-जगह आंदोलन, सराहनीय
  मुजफ्फरनगर, आसाम, दादरी, डीएसपी जियाउल हक़ इनपर खामोशी क्यों ?

07. फलिस्तीन का समर्थन, इजराईल के खिलाफ (सिर्फ दो चार जगह) आंदोलन, सराहनीय
   म्यानमार पर खामोशी क्यों ?

08. उपरोक्त सभी कार्यो में मुसलमानों का साथ सहयोग, सराहनीय
    क्यों का जवाब कौन देगा ? मुस्लिम कार्यकर्ता यह सवाल क्यों नहीं उठाते ? 
-अहेमद कुरेशी-

No comments:

Post a comment