Tuesday, 28 June 2016

बोल रहा कैराना है - इमरान प्रतापगढ़ी

संतो ने कैराना मामले की जांच की, जांच रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंपते हुए संत.
संतो को मिली बम से उड़ाने की धमकी.....
बोल रहा कैराना है.......!
रफ़्ता रफ़्ता अपने लबों को खोल रहा कैराना है ।

चंद भेडिये नाम पे मेरे अपनी रोटी सेंक रहे,
नये शिगूफे ले आये जुमलों पर जुमले फेंक रहे !
इक दंगाई फिर से यात्राओं का नाटक खेल रहा,
और लखनऊ वाले सब चुपचाप तमाशा देख रहे !

नफरत के तूफान में फंसकर डोल रहा कैराना है ।
बोल रहा कैराना है.......!

मुझे जो नफरत की तहरीर बताने पर आमादा हैं,
और द्रौपदी वाला चीर बताने पर आमादा हैं !
वो जो सियाही और लहू का फर्क़ भुलाये बैठे हैं,
वो कैराना को कश्मीर बताने पर आमादा हैं !

उन्हे बता दो सदियों से अनमोल रहा कैराना है ।
बोल रहा कैराना है........!

'मन की बात' करो तो भूखे-नंगों की भी बात करो
भगवा रंग के साथ और सब रंगों की भी बात करो
दो सालों में ख़ून-ख़राबा,लफ़्फ़ाज़ी ही लफ़्फ़ाज़ी
'चाय पे चर्चा' करने वाले दंगों की भी बात करो !

तुम कहते हो ज़हर फ़ज़ॉं में घोल रहा कैराना है ।
तो फिर सुन लो आज चीख़ कर बोल रहा कैराना है !

No comments:

Post a comment