Saturday, 4 June 2016

सुनो किसी शायर ने ये कहा बहुत खूब

अपनों के दरमियान सियासत फिजूल है.....
मकसद ना हो जब कोई बगावत फिजूल है......
नमाज, रोजा, जकात, सदका, खैरा, या हज.......!
माँ बाप नाखुश तो हर इबादत फिजूल है..........!

No comments:

Post a comment