Tuesday, 5 July 2016

नफरत का जहर फैलाने वाले पांडे जी को जावेद हाशमी का करारा जवाब

आज की मेरी एक पोस्ट पर मेरे एकमित्र का कॉमेंट आया:
प्यारे भाईयों माफ़ कीजियेगा अगर किसी ने पूरी कुरआन ठीक से पढ़ी है तो मुझे ज्ञान दीजिये,-- ऐसा क्या है किताब में जिसको पढ़ते ही ज्यादातर इंसान से दानव प्रवृति में तब्दील हो जाते है। गुमराह क्यों हो जाते हैं?//
जब आपने धर्म की बात कर ही दी है तो सुनिए और सुनने की हिम्म्त भी रखिये ऐसे आप चाहें तो जवाब भी दे सकतीं हैं
देखिए बातें तो बहुत है, बात निकलेंगी तो बहुत दूर तलक जायेंगी.........
दरअसल दहशतगर्दी को इस्लाम से जोड़ना एक सोची-समझी साजिश है जिसकी शुरुआत पश्चिमी देशों ने की थी। आतंकवाद की निंदा करनी चाहिए, भले ही वो कोई इंसान करे, संगठन करे या फिर कोई सरकार करे, लेकिन इसे मजहब से जोड़े जाने को किसी भी सूरत में जायज नहीं ठहराया जा सकता। गौरतलब है कि 'इस्लाम' शब्द अरबी भाषा के 'सलाम' शब्द से निकला है, जिसका मतलब है सलामती, अमन। ऐसी हालत में आखिर किस बिनाह पर कहा जा सकता है कि इस्लाम दहशतगर्दों को पनाह देता है


क़ुरआन पढ़ पढ़ के कितने लोग गुमराह हुए हैं, आइए आपको कुछ उदाहरण समेत समझने की कोशिश करता, हम भारतीय हैं इसलिए कोशिश होगी भारतीय उदाहरण ही हूँ उम्मीद है आप ज़रूर समझेंगी।
-राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी, की हत्या करने वाले नाथू राम गोडसे ने कौन सी कुरआन पढ़ी थी???
-श्रीमती इंदिरा गाँधी की हत्या करने वाले बेअंत सिंह और सतवंत सिंह ने कौन सी कुरआन पढ़ी थी ???
-स्वर्गीय राजीव गाँधी और उनके साथ धमाके में मारे गए 14 बेक़सूर लोगों की हत्या करने वाले LTTE के उग्रवादियों ने कौन सी कुरआन पढ़ी थी ???
-वर्ष 2013 में छत्तीसगढ़ की दर्भा घाटी में कांग्रेस के नेता स्वर्गीय महेंद्र कुमार और नन्द कुमार पटेल समेत 24 लोगों की हत्या करने वाले मओवादियो ने कौन सा कुरआन पढ़ा था ???
-28 फरवरी 2014 को छत्तीसगढ़ में एक SHO समेत 6 पुलिसकर्मियों की हत्या करने वाले मओवादिओं ने कौन सी कुरआन पढ़ी थी.


-11 मार्च 2014 को छत्तीसगढ़ के सुकमा जिला के तोंग्पाल गांव में एक आम नागरिक सहित 15 सुरक्षाकर्मियों की हत्या करने वालों ने कौन सा कुरआन पढ़ा था ????
-अभी हाल ही में 30 मार्च 2016 को दंतेवाडा में CRPF के 7 जवानों को शहीद कर देने वालों ने कौन सा कुरआन पढ़ा था ???
-बिहार के अरवल जिला के लक्ष्मनपुर बाथे गाँव में 1 दिसम्बर 1997 को 16 बच्चों, 27 महिलाओं और 18 पुरुषों सहित कुल 61 दलितों की हत्या करने वाले रणवीर सेना के लोगों ने कौन सा कुरआन पढ़ा था ??? 
रणवीर सेना ने इस हत्याकांड की ज़िम्मेदारी लेते हुए कहा था की हम ने बच्चों को इसलिए मारा की वोह बड़े होकर नक्सलवादी बनते हैं और महिलाओं को इसलिए मारा की वोह नक्सालियों को जन्म देती हैं, उन्हों ने कौन सा कुरआन पढ़ा था ???
-बिहार के भोजपुर जिला के बथानी टोला के 21 दलितों की हत्या 11 जुलाई 1996 को कर दी गयी. उन रणवीर सेना के हत्यारों ने कौन सा कुरआन पढ़ा था ???
-यह जो आये दिन असम, मणिपुर, नागालैंड में उग्रवादी हमारे सेना के जवानो को मारते रहते हैं, उन्होंने कौन सा कुरआन पढ़ा है ???
-आज भी भारत के 200 से ज्यादा जिले नक्सल प्रभावित हैं और अनगिनत नक्सलवादी संगठन पनप रहे हैं, उन नक्सलियों ने कौन सा कुरआन पढ़ा है ???
-उत्तर प्रदेश में जो बजरंग दल वाले युवाओं को हथियार चलाने की ट्रेनिंग दे रहे हैं तो वह कौन सा कुरआन पढ़कर लोगों की हत्या करते फिरेंगे ???
भारत में घट रही घटनाओं को अब हम बिलकुल भी अहमियत नहीं देते हैं, और न ही मीडिया इन ख़बरों को प्रमुखता से दिखाता है, लेकिन बांग्लादेश, सरिया, इराक, अफ़ग़ानिस्तान, पकिस्तान इत्यादि में क्या हो रहा है, उस पर सब से पहले चर्चा होती है।
हक़ीक़त यह है कि हम हों या हमारी मीडिया हो या हमारे सत्ता सुंदरी के भक्षक ये चाहते ही नहीं के देश की समस्याओं पर चर्चा हो, बस मुसलमान-हिन्दू, ईसाई-हिन्दू, दलित-सवर्ण आदि का खेल खेलकर अडानी-अंबानी जैसे अनेकों कॉर्पोरेट जगत हमारी खनिज सम्पदा से लेकर बौद्धिक सम्पदा को खोखला करते जा रहे हैं, और हम मूकदर्शक बने तमाशा देखते रहते रहतें हैं, या यूं कहना सटीक होगा कि हमे अपनी ही बर्बादी दिखाई नहीं देती।

सामाजिक कार्यकर्ता एवं वरिष्ठ पत्रकार.


समाज में ऐसे कई लोग है जो बिना सोचे समझे नफरत का जहर घोलते है. कुछ दिन पहले एक खबर खूब जमकर सुर्खियों में थी के, 74 संगठन है जो इस्लाम को बदनाम करने के लिए करोडो रुपया खर्च कर रहे है. शायद यह पांडे जी भी उनसे पैसा लेते होंगे. और बहुत सारे सवाल है.
हिटलर ने 60 लाख यहूदियों का क़त्ल किया था क्या उसने यह नेसंहार कुरआन पढ़कर ही किया था ?
पृथ्वी को तिन बार निरक्षत्रिय करने वाले ने कौनसी कुरआन पढ़ी थी.
पांच हजार वर्षो तक वर्णव्यवस्था बनाकर इंसानों के साथ जानवरों जैसा व्यवहार किया था कौनसी कुरआन से सिखा था?
संत तुकाराम महाराज की ह्त्या करने वालो ने कौनसी कुरआन पढ़ी थी ?
बहुजनो के राजा छत्रपति शिवाजी महाराज को राजा बनने से रोका गया, अफजल खान (जो मुस्लिम नहीं था) के जीत के लिए 700 ब्राम्हणों ने पूना के वाई में कोटि चंडी यज्ञ किया था और कृष्णा भास्कर कुलकर्णी जो अफजल का वकील था उसने महाराज पर तलवार से वार किया था (साभार- छ. शिवाजी महाराजांचे वास्तविक शत्रु) यह सब घटनाए कौनसी कुरआन पढ़कर अंजाम दि गयी ?
छह लाख बौद्ध भिक्कुओ का क़त्ल कौनसी कुरआन पढ़कर किया गया ?
ऐसे लाख सवाल है जो पूछे जा सकते है. लेकिन उपरोक्त सवाल के जवाब पांडे जी से अपेक्षित है. क्या पांडे जी इन सवालों के जवाब दे सकेंगे ?
नहीं दे सकेंगे क्यूंकि उपरोक्त इंसानियत के विरोधी कार्य किसी भी धर्म से नहीं जोड़े जा सकते. कोई भी धर्म नहीं कहता के इंसानों का नाहक क़त्ल किया जाए. कुछ लोग होते है जो हर धर्म में पाए जाते है जो यह काम करते है. और कुछ लोग पांडे जी जैसे होते है जो समाज में नफरत का जहर घोलने का कार्य करते है. ऐसे लोगो से सावधान रहे और इंसानियत का साथ दे.
उपरोक्त आर्टिकल सिर्फ इसलिए है के कोई भी समाज में नफरत फैलाने का काम करता हो तो उसे नजरअंदाज किया जाए. और किसी भी धर्म को जोड़कर किसी भी गलत काम का प्रचार ना किया जाए. धन्यवाद
-संपादक

No comments:

Post a comment