Monday, 26 February 2018

आतंकी भीड़ ने ली एक और बेकसूर की जान, मोदीराज में लोकतंत्र पर भारी भीड़तंत्र




देश में मोदी सरकार आने के बाद हत्या करने का एक नया ट्रेंड शुरू हुआ है। इसमें कुछ भीड़ इकट्ठा होती है और किसी भी शख्स को पीट पीट कर मार डालती है। कभी यह भीड़ गोमांस के आरोप में किसी की जान लेती है तो कभी बच्चा चोरी, या लड़की ‘छेड़ने’ का आरोप लगाकर किसी भी इंसान की हत्या कर डालती है। मॉब लिंचिंग की घटनाओं में मुसलमान सबसे ज्यादा पीड़ित हैं, और दूसरे नंबर पर दलित हैं।

राजस्थान में एक बार फिर भीड़ का क्रूर चेहरा सामने आया है जिसमें कानपुर निवासी मजदूर को बच्चा चोरी और लड़की छेड़ने का आरोप लगाकर भीड़ द्वारा मार दिया गया। मामला प्रदेश की राजधानी जयपुर का है जहां एक मजदूर खूनी भीड़ का शिकार हो गया। भीड़ द्वारा की गई इस हत्या का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में दिखाया गया है कि कैसे राक्षस दरिंदा बनी भीड़ एक इंसान को बेरहमी से पीट रही है। यह घटना तीन फरवरी की है। जब कानपुर निवासी फैजल सिद्दीकी अपने दोस्त की बच्ची को घर से लेकर निकला था, कुछ दूर पहुंचकर उसे कुछ लोगों ने घेर लिया और उस पर बच्चा चोरी करने और लड़की छेड़ने का आरोप लगाकर पीटना शुरू कर दिया। भीड़ की दरिंदगी का शिकार हुऐ फैजल सिद्दकी की बीते 21 फरवरी को मौत हो गई थी।

समचार ऐजेंसी एएनआई ने इस घटना का वीडियो जारी किया है। इस वीडियो की तस्वीरें दरिंदगी से भरी हुई है। जिसमें दिख रहा है कि कुछ लोगों ने मोहम्मद फैजल सिद्दीकी को एक खंभे से बांध रखा है। और बेरहमी से फैजल को पीट रहे हैं। फैजल का चेहरा लहूलुहान है। खंभे में बंधा फैजल कुछ कहना चाहता है वह अपनी बेगुनाही की गुहार लगा रहा है, लेकिन उसकी सुनने वाला कोई नहीं है।

जब फैजल कुछ कहना चाहता है तो उसके मुंह पर लोग हमला करते हैं। खून से सने चेहरे से वह अपनी बात कहता है लेकिन उसकी कोई नहीं सुनते हैं। वीडियो में दिख रहा है कि खंभे से बंधा फैजल नीचे गिरा हुआ है, तभी एक शख्स उसके पैरों पर खड़ा हो जाता है। फैजल जोर से चिल्लाता है, लेकिन हैवान बनी भीड़ उसकी नहीं सुनती। वह शख्स काफी देर तक उसके पैरों पर खड़ा रहता है, इस दौरान फैजल दर्द से तड़पता रहता है।

जब इस घटना की जानकारी जब बच्ची के पिता को हुई तो वह घटनास्थल पहुंचे और बच्ची और फैजल दोनों को खूनी भीड़ से आजाद कराया। लेकिन इस दौरान काफी देर हो चुकी थी, फैजल गंभीर रूप से घायल हो चुका था। जिसकी 21 फरवरी को इलाज के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने इस मामले में निशांत मोदी और महेंद्र नाम के शख्स को गिरफ्तार किया है। फैजल के भाई का कहना है कि अस्पताल प्रशासन ने उसके भाई को गंभीर अवस्था में ही डिस्चार्ज कर दिया।

loading...



No comments:

Post a comment