Tuesday, 25 February 2020

CAA- NRC आंदोलन : इस Shaheen Bagh में एक और मुस्लिम खातून शहीद

लखनऊ के घंटा घर पर CAA के खिलाफ पिछले 40 दिनों से जारी रहने वाला प्रोटेस्ट में शामिल तय्यबा का आज इंतेक़ाल हो गया. तय्यबा करामत हुसैन गर्ल्स पी जी कालेज की BA के फाइनल साल की स्टूडेंट थीं-
 
तय्यबा के मौत की वजह बीमारी बताई गई है-
CAA के खिलाफ घंटा घर पर दीगर ख़्वातीन के साथ तैय्यबा भी मुज़ाहरे में शामिल थीं- गुज़िश्ता जूमआ और इतवार की रात में हुई बारिश में भीगने की वजह से तय्यबा बीमार हो गई थीं और इलाज के दौरान वह अपने मालिके हक़ीक़ी से जा मिलीं. मशहुर शायर मनव्वर राना की बेटी सुमैय्या राना ने तय्यबा की मौत के लिए रियासती हुकूमत को ज़िम्मेदार ठहराया है-उन्होंने इल्ज़ाम लगाया कि पुलिस ने घंटा घर के मुज़ाहरीन को टेंट लगाने की इजाज़त नहीं दी थी जिसकी वजह से तय्यबा भीग गई और उसकी तबियत खराब हो गई और इस तरह तय्यबा शहीद हो कर तारीख में अमर हो गई-

मुस्तकबिल का मुअर्रिख जब तारीख लिखेगा तो जहाँ वह अरबाबे इक़्तेदार व अख्तियार के ज़ुल्म व ज़बर की दास्तान लिखेगा वहीं तय्यबा की क़ुरबानी का ज़िक्र करते हुए यह सतर भी लिखने पर मजबूर होगा कि 1731 में मदरसा रहीमीया से पहली बार अंग्रेजी सरकार के खिलाफ जिहाद का फतवा देकर उलमाओं को क़ुरबान करने वाली क़ौम की औरतें जब CAA के खिलाफ धरने पर बैठीं तो उनके सर से सायबान तक छीन लिया गया था-

No comments:

Post a comment