Friday, 21 February 2020

सरकार Electricity पैदा करने के लिए Enough project क्यों नहीं बना रही है?

सरकार Electricity पैदा करने के लिए Enough project क्यों नहीं बना रही है?
जब भारत में बिजली (Electricity) की इतनी कमी है, तो सरकार बिजली (Electricity) पैदा करने के लिए पर्याप्त पनबिजली परियोजना और सौर परियोजना क्यों नहीं बना रही है?

भारत में बिजली (Electricity) उत्पादन क्षमता अधिकतम लोड की आवश्यकता को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकती है लेकिन यह निश्चित रूप से "दुर्लभ" नहीं है।

भारत में कुल बिजली (Electricity) उत्पादन लगभग 300 गीगावॉट है जिसमें मुख्य रूप से ऊर्जा के पारंपरिक स्रोतों जैसे कोयला गैस आदि से 75-80% उत्पादन शामिल है, जहाँ 42 गीगावॉट अक्षय स्रोतों से पवन सौर जल और इतने पर उत्पन्न होता है।

भारत सरकार दशकों से हाइड्रो के साथ-साथ सौर का विकास कर रही है। मोदी सरकार और मौजूदा सरकार के पास 2022 तक सोलर इंस्टॉलेशन (Solar installation) 100 GW करने का लक्ष्य है।

मैं हाइड्रो प्लांट (Hydro plant) के बारे में इतना निश्चित नहीं हूं क्योंकि एक सामान्य हाइड्रो पावर प्लांट (Hydro power plant) आमतौर पर एक सौर परियोजना पर समय की एक समान अवधि लेता है।

No comments:

Post a comment