Sunday, 5 April 2020

Nizamuddin पड़ताल : अपराधी मीडिया के सबसे बड़े 5 झूठ का पोस्टमार्टम

Nizamuddin पड़ताल अपराधी मीडिया के सबसे बड़े 5 झूठ का पोस्टमार्टम
सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे सभी वीडियो को टाइम्स ऑफ इंडिया, इंडियन एक्सप्रेस, बीबीसी, द क्विंट और ऑल्ट न्यूज़ ने तय किया है।
1) पहला वीडियो जो वायरल हुआ वह एक टोपी पहने हुए युवक का है। वीडियो से ऐसा लगता है कि युवक एक चम्मच पर थूक रहे हैं और चाट रहे हैं। फिर बहुत सारे युवक एक साथ आते हैं और प्रार्थना करते हैं।


यह वीडियो 2018 का है। वीडियो में दिखाई गई क्रिया को 'फूंक मारना' कहा जाता है। चाहे आप खाना खाएं या पानी पिएं, आपको इससे फायदा होना चाहिए। मुस्लिम समुदाय के ‘कुछ’ लोग खाने पर फूंक मारते हैं ताकि हम पर अल्लाह की कृपा बनी रहे। अर्थात अल्लाह से प्रार्थना करके, कुछ श्लोकों का पाठ करके, खाने-पीने पर 'फूंक मारते है'। यह सर्वविदित है कि कई मस्जिदें के बाहर सैकड़ों हिंदू भाई पानी की बोतलें ले जाते हैं और उसपर मौलाना द्वारा दुआ पढ़कर फूंक मारा जाता है। यह वास्तव में दिखाए गए वीडियो का प्रकार है। - लिंक

2) दूसरे वीडियो में, कुछ मुस्लिम युवक मस्जिद में डाइनिंग टेबल पर बर्तन चाटते हुए पाए गए।


यह वीडियो जुलाई 2018 का है। यह एक बोहरा मस्जिद में भोजन के बाद की मुलाकात का वीडियो है। बोहरा मुस्लिम समाज में, यह अभी भी एक परंपरा है । कि जब एक मस्जिद में सामाजिक भोज की व्यवस्था की जाती है, तो एक ही समय में तीन या चार लोग एक साथ भोजन के लिए बैठते हैं। यह मुसलमानों में ही संभव है क्योंकि जाति व्यवस्था नहीं है। इस्लाम में छुआछूत, वर्णव्यवस्था नहीं है । इस वीडियो में, दो या दो, तीन, तीन, चार-चार बोहरी युवक एक साथ बैठे हुए दिखाई देते हैं। दोपहर के भोजन के समय कुछ युवा थाली को चाटते दिखते हैं। यह मुस्लिम समुदाय की परंपरा का हिस्सा भी है। यह मानते हुए कि भोजन का प्रत्येक कण अल्लाह की कृपा है, धर्म मुस्लिम भोजन के एक भी कण को व्यर्थ नहीं जाने देता। भोजन के बाद सभी तालिकाओं को उंगलियों से साफ़ कर दिया जाता है। इस कारण से, कुछ लोग अपनी हाथों की उंगलियों को चाटते हैं, और कुछ पोंछते हैं । और अपनी प्रकृति के अनुसार उन्हें साफ करते हैं। वीडियो में ऐसा ही दिख रहा है। - लिंक

3) तीसरे वीडियो में, एक कोरोना संदिग्ध पुलिस पर थूकता हुआ दिखाई दे रहा है।

यह वीडियो 5 फरवरी का है। मुंबई मिरर अखबार ने अपने पोर्टल पर वीडियो साझा किया। यह वीडियो एक स्थानीय अपराधी का है। इस वीडियो का कोरोना से कोई लेना-देना नहीं है। - लिंक


4) एक मुस्लिम व्यक्ति का प्लास्टिक की थैली में थूकने का एक वीडियो वायरल हुआ है।


मूल रूप से यह वीडियो थूकने के लिए नहीं है, बल्कि फूंकने के लिए है। दुकानदार आमतौर पर प्लास्टिक की थैलियों को खोलने के लिए अपने हाथों को रगड़ते या कोई फूंक कर उसे खोलता हैं। इस वीडियो में दुकानदार फूंक रहा है। यह वीडियो कोरोना से पहले का है। इस वीडियो का कोरोना के प्रसारण से कोई लेना-देना नहीं है। - लिंक

5) निजामुद्दीन मरकज के रूप में एक वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमें मस्जिद में कुछ लोग सामूहिक रूप से फूंकते दिख रही है।

वीडियो कई साल पुराना है और यह पाकिस्तान की एक सूफी मस्जिद का वीडियो है। यह सूफीवाद में एक विकृत पूजा पद्धति है। इसका कोरोना से कोई लेना-देना नहीं है। और ना ही इस्लाम से । इस तरह के कई विकृत रीति-रिवाजों और परंपराओं को तब्लीग जमातियों, अहल अल-हदीस और इस्लामी समुदाय द्वारा बंद कर दिया है। - लिंक


मूल रूप से किसी भी खबर को पूरी तरह से जांच के बिना अग्रेषित करना एक अफवाह फैलाने जैसा अपराध है। विडंबना यह है कि मुस्लिम विरोध का नैतिक स्तर निम्न स्तर पर पहुंच रहा है। बिना शर्म के, निर्लज्ज, झूठी खबर फैलाई जा रही है। ऐसी खबरे फैलाकर हिन्दू मुस्लिमों में फसाद कराने की कोशिस करने वालों पर कड़ी कारवाही होनी चाहिए ।


आप भी यदि हमारी पुलिस का दर्द और एहसान नहीं समझ पा रहे हैं तो चिंता की बात है
वे बेचारे अपना घर बार छोड़कर हम तक बीमारी पहुंचने से रोक रहे हैं

(साथियों, अपने इलाके की गतिविधियाँ, खबरे, लेख, अपने इलाके की खासियत, माहौल, जानकारी हमें भेजे, चुनिंदा साहित्य को प्रकाशित किया जाएगा socialdiary121@gmail.com)

No comments:

Post a comment