Friday, 3 July 2020

बस में एक घटना ने जीवन बदल दिया और बन गई IPS

बस में एक घटना ने जीवन बदल दिया और बन गई IPS
एक घटना एक जीवन बदलने वाली घटना है। कभी अच्छी चीजें होती हैं तो कभी बुरी चीजें होती हैं। IPS शालिनी अग्निहोत्री एक ST बस में एक व्यक्ति द्वारा बोली गई सजा के कारण UPSC करना चाहती थी। उसके बाद शालिनी अग्निहोत्री यूपीएससी पास कर आईपीएस बनीं। आइए जानें एक बस कंडक्टर की बेटी का IPS बनने का सफर।


शालिनी ने एक साक्षात्कार में कहा था कि एक बार वह अपनी माँ के साथ बस से यात्रा कर रही थी। पिता उस बस में कंडक्टर थे। एक आदमी पिछली सीट पर खड़ा था जहाँ उसकी माँ बैठी थी। मां ने तब उस आदमी से उसका हाथ पकड़ने के लिए कहा। लेकिन वह आदमी चिल्लाया, "क्या आप कलेक्टर हैं? मैं आपसे सुनना चाहता हूं।"


शालिनी, जो उस व्यक्ति के एक वाक्य से कम थी, के मन में कई सवाल थे। कौन है कलेक्टर? हर कोई कैसे उसकी बात सुनता है। शालिनी ने छोटी उम्र में इन सवालों के जवाब खोजने की कोशिश की। उस समय, उन्हें जानकारी मिली और उन्होंने एक पुलिस अधिकारी बनने का फैसला किया। बचपन से ही पढ़ाई में अच्छी रही शालिनी को उसके परिवार ने पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित किया। शालिनी ने कहा कि उनके पिता एक बस कंडक्टर थे लेकिन उन्होंने मेरी शिक्षा में कोई कमी नहीं की।


यहां डीएवी स्कूल में अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, शालिनी स्नातक के लिए हिमाचल प्रदेश कृषि विश्वविद्यालय गई। वहां सीखने जाने से पहले, UPSC मेरे सिर में नहीं थी। लेकिन उसी समय, उन्होंने अपने बचपन की घटना को याद किया और पुलिस अधिकारी बनने का फैसला किया। इसके लिए तैयारी शुरू हो गई। डेढ़ साल की पढ़ाई के बाद, उन्होंने 2011 में यूपीएससी की परीक्षा दी। शालिनी ने अपने बैच में नंबर एक स्थान हासिल किया था।


शालिनी ने 2011 में परीक्षा दी। मार्च 2012 में उनका साक्षात्कार हुआ। मई में ऑल इंडिया रैंकिंग में उन्हें 285 वां स्थान मिला था। उसे दिसंबर 2012 में हैदराबाद के एक प्रशिक्षण केंद्र में भर्ती कराया गया था। वर्तमान में कुल्लू जिले में एसपी के रूप में कार्यरत हैं।


No comments:

Post a comment