Saturday, 18 June 2016

अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा बना था गुजरात दंगा

भारत में हज़ारों दंगे हुए हैं लेकिन गुजरात दंगा अकेला ऐसा दंगा था जिस पर पूरी दुनिया का ध्यान आकर्षित हुआ था और चूँकि इसमें कई विदेशी नागरिक भी मारे गए थे इसलिए ये अंतर्राष्ट्रीय मुददा बन गया था, ये नरसंहार की कटेगरी में फिट बैठता था और इंटरनेशनल कोर्ट ले जाने के लिए बिलकुल फिट मामला था अगर ये मामला इंटरनेशनल कोर्ट जाता तो फैसला कई साल पहले आ चुका होता और वो हर हाल में इंडियन कोर्ट से ज़्यादा निष्पक्ष और बेहतर फैसला होता।


लेकिन इंसाफ़ दिलाने के नाम पर उछल कूद मचा रहे एक्टिविस्टों ने इसे बाहर जाने नहीं दिया और यही पर सबकी लीपापोती कर दी, मुददा पुराना होकर दबा भी दिया गया, 

आप जिन्हें मसीहा समझे बैठे हैं वो दरअसल गुनाहगारों की क़तार में खड़ा किये जाने वाले लोग हैं, उन्होंने मुजरिमों को बचाया है |
Md Iqbal की फेसबुक वाल से 

No comments:

Post a comment