Friday, 8 July 2016

मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करता है प्रशासन, हनन की रोक के लिए नहीं बना कोई कानून नहीं बन

वामन मेश्राम इनकी प्रबोधानात्मक फाइल फोटो, 
बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी कोमुनिस्ट एम्प्लोयेस फेडरेशन बामसेफ के राष्ट्रीय अध्यक्ष वामन मेश्राम इन्होने अपने एक बयान में यह खुलासा किया है की, 
भारत के संविधान में जितने भी मौलिक अधिकार(बुनियादी अधिकार) दिए है उस मौलिक अधिकारों का उलंघन प्रशासन करता है|  उसके विरोध में भारत के प्रजा को हर मौलिक अधिकार का स्वरक्षण करने के लिए भारत सरकार ने आज तक कोई कानून क्यों नहीं बनाया? 

इस वजह से क्लास थ्री पोस्ट के इंस्पेक्टर के पास आप अगर कोई प्रोग्राम की अनुमति लेने जाते है तो वह अनुमति देने दे इंकार कर देता है यह लोगों के मौलिक अधिकार का हनन है| लोगों के मौलिक अधिकार का हनन सुप्रीम कोर्ट भी नहीं कर सकता लेकिन क्लास थ्री पोस्ट का अधिकारी संविधान के विरोध का काम करता है| क्यों? क्योंकि आज तक मौलिक अधिकार का हनन ना हो इसके लिए कोई कानून ही नहीं बना है|

सम्पूर्ण जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक को क्लिक कर विडियो देखे.....

No comments:

Post a comment