Wednesday, 1 July 2020

फिलिस्तीन की जमीन छीनने वाला पैदा नहीं हुआ - एर्दोगन

फिलिस्तीन की जमीन छीनने वाला पैदा नहीं हुआ - एर्दोगन
तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने 2020 में एक बार फिर से फिलिस्तीन के लिए उनके मुल्क के समर्थन को दोहराया । बता दे, जैसे जैसे 2023 नजदीक आ ता जा रहा है वैसे वैसे ही तुर्कि कि गतिविधियां प्रतिबंधित एरियो में हलचल धीरे धीरे बढ़ती जा रही है । अंतरराष्ट्रीय खबरों के मुताबिक तुर्की जल्द ही अरब देशों की तरह तेल निकालना शुरू कर सकता है । वही तुर्की सदर लगातार फिलिस्तीन के हक़ में आवाज उठाते हुए आए है ।


एक बार फिर उन्होंने फिलिस्तीन के समर्थन में बयान दिया है। रजब तैयब एर्दोगान ने अमेरिकी मुसलमानों को अपने विडियो मे सम्बोधित करते हुए कहा कि हम फ़िलिस्तीनी ज़मीन को किसी को देने की अनुमति नही देंगे । इसी कड़ी मे एर्दोगान ने अल-अक्सा मस्जिद का जिक्र करते हुए कहा कि अल-कुद्स अल-शरीफ जो तीन धर्मों का पवित्र स्थल है ।


और हमारे पहला किबलाए अव्वल है, अज़ीम व पाक जगह है ओर ये दुनितभर के मुसलमानों के लिए लाल रेखा है. रजब तैयब एर्दोगान ने ये भी कहा कि पिछले हफ्ते हमने देखा कि फ़िलिस्तीन की सम्प्रभुता ओर अन्तराष्ट्रीय कानुन की अवहेलना करने वाले एक नये कब्जे और एनेक्सेशन प्रोजेक्ट को इजरायल द्वारा कार्यवाही मे शामिल कर लिया गया ।


नेतन्याहू ने कहा कि 1 जुलाई को वे वेस्ट बैंक के कुछ हिस्सों को एनेक्स करेंगे जैसे कि नेतन्याहू ओर हालौ एडं व्हाइट पार्टी के बीच सहमती हुई थी । इस योजना दुनियां भर के मुस्लिम मुमालिक मे नाराजगी है खासकर तुर्की मे ।बता दे, तुर्की बीते कुछ सालों से अंतरराष्ट्रीय मुस्लिमो के हक़ के लिए आवाज उठाता रहा है ।


तुर्की सदर एर्दोगन ने कई बयानों में कहा है कि वो मस्जिद के अक्सा के लिए किसी भी तरह का समझौता करने को तैयार नही है । एर्दोगन आगे कहते है कि वो अमेरिका को यहां पर किसी भी तरह की राजनीति नही करने देंगे क्योंकि बैतूल मुकद्दस मुसलमानों का था और रहेगा ।

No comments:

Post a comment