Sunday, 3 July 2016

बांग्लादेश में हुए हमलो का ‪पुरज़ोर विरोध‬

बंगलादेश में हुए हमलो का मुसलमानों द्वारा सोशल मीडिया पर तीखा विरोध किया जा रहा है. और ज़िंदा पकडे गए आतंकियों को खूंखार सजा देने की मांग भी की जा रही है. सस्थ ही कुछ बुद्धिजीवि लोग कुछ ख़ास सुझाव भी दे रहे है.......और कई तर्क वितर्क पर चर्चा की जा रही है. कहा जा रहा है की आतंकियों ने कुरआन की आयते सुनाने को कहा और जिनको कुरआन की आयते आती हो उन्हें छोड़ दिया गया... यह आतंकवादी इस्लाम को बदनाम करने के मकसद से ही यह कर रहे है यह बात समझमे आने के बाद एक हिन्दू बहन अरिशी के लिए दो मुस्लिम युवाओं ने अपनी जान गंवाई. आतंकवादियों ने उन्हें जाने के लिए कहा था, लेकिन इन दोनों की जिद्द थी के हमारो हिन्दू बहन को जाने  दो फिर हम जायेंगे. आतंकवादियों ने अरिषी  के साथ उन  दोनों मुस्लिम युवाओं को भी मौत के घात उतारा. इससे यही साबित है के आतंकवादि सिर्फ आतंकवादी होते है. उनका कोई मजहब नहीं होता......

बांग्लादेश में हुए हमलो का ‪#‎पुरज़ोर_विरोध‬
‪#‎निषेध्_निषेध्_निषेध्‬
‪#‎बांग्लादेश‬ या कही भी पकडे गए ज़िंदा दहशतगर्दो को इस्लामिक स्कॉलर्स के सामन बिठा कर डिबेट करानी चाहिए कैसे तुम इस रास्ते पर चल पड़े ।
‪#‎कहा‬ लिखा है बाज़ारो , होटलो ,धर्म स्थलो पर बम ब्लास्ट करो । 
‪#‎क़ुरान_कहता_है_एक_बेक़सूर_की_हत्या_सारी_इंसानियत_की_हत्या_के_बराबर_है‬ । 
जब वो दहशतगर्द जवाब न दे सके तो कहा जाये अब तुम किस तरफ से मुसलमान ठहरे भला और ज़लील कर के उसे क़ब्र की मिटटी नसीब न होने दे और दुनिया में जहन्नम का मज़ा चखाए ।। और इस का वीडियो दुनिया को दिखाए ताकि वो मासूम नौजवान जो इन ‪#‎फ़र्ज़ी_जिहादियो‬ की ब्रेन वाश का शिकार होते है उन्हें पता लगे की ये जाहिल तो खुद इस्लाम की तालीमात नहीं जानते ये तो दहशतगर्द है सिर्फ ब्रेन वाश का शिकार है।
मेरा सरकार से अनुरोध है हर पकडे गए ज़िंदा दहशतगर्द को सब के सामने लाया जाये हमारे मुस्लिम स्कॉलर ही ज़लील करेगे उन्हें क़ुरान ओ हदीस की रौशनी में । 
इससे आतंकवाद और इस्लाम में कोई वास्ता नहीं लोगो को समझ आयेगा ।। और शिकार होते मासूम जवान इन की गिरफ्त में आने से बचेंगे ।।

No comments:

Post a comment